केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।


  • हिंदी समाचार
  • महिलाओं
  • जीवन शैली
  • केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट बनाती हैं, पर्यावरण को बचाने के लिए यहां आने वाले पर्यटकों को संदेश देती हैं

15 दिन पहले

  • कॉपी लिस्ट
09 1601528639 केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है  केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।
  • अपर्णा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली और लोगों से अपने क्षेत्र की अष्टमुडी झील साफ करने के लिए मदद मांगी तो कई लोग आगे आए
  • अपर्णा चाहती हैं कि लोगश न करने के लिए जागरूकता फैलाएं

केरल की रहने वाली 24 साल की अपर्णा इधर-उधर से कांच की बोतलें उठाकर लाती हैं और उससे घर डेकोरेट करने वाले बेहद खूबसूरत प्रोडक्ट बनाते हैं। बीएड कर चुकी यह छात्रा कलाकार और क्राफ्ट के लिए वेस्टेज बोतलें ही इस्तेमाल करती हैं।

पर्यावरण के प्रतिरूप अपर्णा मनरोतुरुत्तु में रहते हैं। यह स्थान कोल्लम से कुछ दूर एक टूरिस्ट प्लेस हैं। उन्होंने बताया कि यह सिलसिला 2017 में शुरू हुआ। मां को वेस्ट से बठ बनाते हुए इनकी रूचि देखकर भी इस क्षेत्र में वृद्धि हुई।

98 1 1601528682 केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है  केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।

इनका गाँव टूरिस्ट प्लेस होने के कारण उन्हें अपने क्षेत्र में कूड़ा और कांच की बोतलें पड़ीं दिखती थीं। अपर्णा पढ़ने के लिए रोजाना कोल्लम जाती थीं और लौटते वक्त सड़क पर पड़ी बोतलें घर ले जाती थीं। यह देख लोग हंसा करते थे और चिढ़ाकर उनका काम ‘कुप्पी’ रख दिया गया था। अपर्णा इन्ही वर्षों के हिसाब से स्वच्छ करके कलात्मक मेँ और सोशल मीडिया पर पोस्ट करती थीं। कई लोगों ने इनकी तारीफ की।

9887 1601528695 केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है  केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।

अपर्णा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट डाली और लोगों से अपने क्षेत्र की अष्टमुडी झील साफ करने के लिए मदद मांगी तो कई बार आगे आए। इसी वर्ष 17 से 21 मार्च तक उन्होंने सोशल मीडिया के दोस्तों के साथ मिलकर पूरी झील साफ कर दी। इसमें से निकली साललों से सभी लोगों ने तरह की वस्तुएं बनाकर सड़क किनारें सजा दीं। अपर्णा चाहती हैं कि लोगश न करने के लिए जागरूकता फैलाएं।

32 1601528710 केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है  केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।

अपर्णा को चिढ़ाए जाने वाले कुप्पी शब्द को ही उन्होंने रेगर्ड बना दिया और घर के कमरे को कुप्पी स्टूडियो में बदल दिया। उसके बाहर वाले गाँव वालों ने बेहतरीन कलाकृतियाँ रखीं। यहां से वे टूरिस्टों और अन्य लोगों को वर्कशॉप देते हैं।

88 1 1601528724 केरल की अपर्णा बेकार कांच की बोतलों से घर की सजावट करती है, यहाँ आने वाले पर्यटकों को पर्यावरण को बचाने का संदेश देती है  केरल की अपर्णा कांच की बेकार अवस्थाओं से बना हैं होम डेकोरेशन का सामान, यहां आने वाले तुरिस्टों को खाती हैं पर्यावरण बचाने का संदेश।

इसके अलावा स्कूलों में जाने वाले बच्चों को सीखाती हैं कि वेस्ट को क्राफ्ट में कैसे बदल रहे हैं। लॉकडाउन में उनके ऑफ़लाइन सेशन कामयाब रहे और काफी लोगों ने वेस्ट से निर्मित वस्तुओं को पोस्ट की। जब बच्चे उनसे सीखते हैं तो वे उन्हें खुशी होती हैं।



https://www.bhaskar.com/ladies/way of life/information/aparna-of-kerala-makes-home-decorations-with-useless-glass-bottles-gives-a-message-to-the-tourists-coming-here-to-save-the-environment-127769975.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

17 + 6 =